रिटायर होना चाहती हैं गुजरात की CM आनंदीबेन पटेल, फेसबुक पर लिखा- मुझे जिम्मेदारी से मुक्त करें

गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने अपने पद को छोड़ने की मंशा जाहिर कर दी है. उन्होंने फेसबुक पर एक पोस्ट के जरिए कहा है कि वह मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी से हटना चाहती हैं. उन्होंने पार्टी आलाकमान को चिट्ठी लिखकर इस रिटायरमेंट के बाबत जानकारी देने की बात भी कही है.

नए सीएम को मिले चुनाव की तैयारी का वक्त
आनंदीबेन ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि इस साल नवंबर महीने में वह 75 साल की हो जाएंगी. अगले साल 2017 के आखिर में गुजरात में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं. साथ ही हर दो साल पर होने वाले वाईब्रेंट गुजरात समिट भी जनवरी 2017 में ही होने वाला है. इसलिए वह चाहती हैं कि नए आने वाले मुख्यमंत्री को इन सबकी तैयारी का पूरा वक्त मिले.

पार्टी आलाकमान से की दोबारा गुजारिश
आनंदीबेन पटेल ने लिखा है कि उन्होंने दो महीने पहले ही पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व को यह बातें बता दी थीं कि उन्हें मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए. उन्होंने सोमवार को फिर से एक चिट्ठी के जरिए पार्टी के वरिष्ठ नेतृत्व को बताया कि उन्हें मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए. उन्होंने लिखा कि इसके लिए मैं विनती कर रही हूं.

गुजरात: अपनी कुर्सी बचाने की कोश‍िश में CM आनंदीबेन, 2 दिन में किए ये 3 बड़े ऐलान

anandiben_147005200384_650x425_080116051921

पाटीदार आंदोलन ओर दलित कांड की वजह से लगातार विरोधि‍यों के निशाने पर रही गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने पिछले दो दिनों में तीन बड़ी घोषणाएं करके राज्य के लोगों को खुश कर दिया है.

आनंदीबेन ने शनिवार को अचानक ही वलसाड़ के एक सरकारी कार्यक्रम में घोषणा कर की कारों और छोटे वाहनों पर पूरे गुजरात में 15 अगस्त से कोई टोल टैक्स नहीं लिया जाएगा. टोल टैक्स माफ करने की राज्य के लोग लंबे समय से मांग कर रहे थे. आनंदीबेन ने ये ऐलान भी किया, टोल टैक्स की सारी रकम का बोझ राज्य सरकार उठाएगी.

पाटीदारों के ख‍िलाफ 90 फीसदी केस वापस लेने का ऐलान
रविवार को जब गुजरात में दलित महासभा में ये फैसला किया जा रहा था कि मरे हुए जानवरों को उठाने वाले dalit  5 अगस्त से 15 अगस्त तक अहमदाबाद से ऊना पैदल यात्रा निकाल असली आजादी मनाएंगे तभी सीएम ने एक बड़ा ऐलान कर लंबे समय से बीजेपी से नाराज चल रहे पाटीदारों को खुश कर दिया. आनंदीबेन ने पाटीदार आंदोलन के दौरान दर्ज हुए पथराव के 438 में से 391 केस वापस लेने का ऐलान कर दिया. इस पर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कहा कि आनंदीबेन राजद्रोह का केस वापस न लेकर पाटीदारों को बांटने की कोश‍िश कर रही

1 अगस्त से सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें लागू
अभी दिन खत्म भी नहीं हुआ था कि सरकार ने और बड़ी घोषणा कर नाराज चल रहे गुजरात के 4.65 लाख सरकारी कर्मचारियों और 4.12 लाख पेंशनधारकों को खुश कर दिया. सीएम ने ऐलान किया कि राज्य में सातवें वेतन आयोग की सिफारिशें 1 अगस्त से लागू हो जाएंगी. इससे सरकार पर 6 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा.

आनंदीबेन की इन घोषणाओं से लग रहा है कि जैसे गुजरात में विधानसभा चुनाव 2017 में नहीं, बल्कि इसी साल हों. ये देखना बहुत दिलचस्प रहेगा कि पाटीदारों और दलितों के बीच जातिवादी समीकरणों की ये घोषणएं कितनी कारगर साबित होंगी.

A Big Vision News Network India

About A Big Vision News Network India

Leave a Reply

*