भ्रष्टाचार से घिरे अवध विश्वविद्यालय के बी सी

परीक्षा के पर्चे लीक पर कार्यवाही से बच रहे हैं जिम्मेदार

फैजाबाद।  देश के प्रधानमंत्री दामोदरदास नरेंद्र मोदी ने चुनाव के दौरान  गोंडा को नकल की मंडी बताते हुए इशारे इशारे में शिक्षा से नकल के समूल नाश करने का कड़ा संदेश दिया था ।प्रदेश में भाजपा सरकार बदली कड़क मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी राज आ गया परत्तु इंटरमीडिएट और विश्वविद्यालय में नकल समाप्त करने का कोई प्रभाव नहीं दिखा। अवध की धरती पर स्थित डॉक्टर राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय में बीएससी प्रथम व द्वितीय वर्ष के रसायन विज्ञान के पर्चे साकेत महाविद्याल के सेंटर पर लीक की  शिकायत प्रदेश के राज्यपाल रामनाईक से अधिवक्ता  शैलेंद्र प्रताप सिंह ने लीक परचो की मेल भेजकर शिकायत किया था। परन्तु   खबर लिखने तक विश्वविद्यालय के वर्तमान कार्यवाहक  वी सी जी सी आर जायसवाल ने जांच  समित बनाकर मात्र औपचारिकता ही निभाई ।और नतो परीक्षा निरस्त किया और न ही कोई कड़ा निर्णय लिया बल्कि अज्ञात में FIR दर्ज करा कर इस पर लीपापोती शुरू कर दिया। विश्वविद्यालय की परीक्षा की सुचिता तार तार  हो गई। खुलेआम नकल के आरोपी महाविद्यालय को परीक्षा केंद्र बना दिया गया है जिससे मुख्य परीक्षा में नकल का खूब बोल बाला है। वर्तमान कुलपति पहचान पहचान कर कार्यवाही कर रहे हैं भ्रष्टाचार में डूबे वर्तमान कुलपति के खिलाफ प्रदेश सरकार ने विजिलेंस जांच का आदेश कर रखा था।  आरोपी अपना बयान भी जांच अधिकारी को दे चुके हैं। जिले के फायर ब्रांड शिवसेना नेता बाबरी विध्वंस कांड के प्रमुख अभियुक्त संतोष दुबे ने प्रदेश के राज्यपाल व मुख्यमंत्री से इस भ्रष्ट
वी सी  की निष्पक्ष जांच कराने की मांग किया और पद पर रहते हुए   निष्पक्ष जांच संभव नहीं है।

A Big Vision News Network India

About A Big Vision News Network India

Leave a Reply

*