सजा से बचने के लिए राम रहीम ने कहा था- ‘मैं 17 साल से नपुंसक हूं’

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने रेप के दो मामले में 10-10 साल की सजा सुनाई है. लेकिन, राम रहीम से जुड़ी एक और जानकारी सामने आ रही है. रेप के चार्ज से अपने आप को बचाने के लिए गुरमीत राम रहीम सिंह ने दावा किया था कि वह साल 1990 से नपुंसक है.

राम रहीम पर अगस्त से लेकर सितंबर 1999 तक दो रेप चार्ज लगा है. सीबीआई कोर्ट में ट्रायल के दौरान अपना पक्ष रखते हुए गुरमीत ने कहा, वह साल 1990 से सेक्स करने में असमर्थ है. इसलिए उसके ऊपर साल 1999 में किसी तरह के रेप का आरोप सिद्ध नहीं हो सकता है.

सीबीआई जज जगदीप कुमार के सामने बयान दर्ज कराते हुए गुरमीत ने कहा, इस ग्राउंड पर ही उसके ऊपर लगे आरोप को खारिज किया जा सकता है. हालांकि, इस मामले में एक गवाह ने उसके ही बयान को खारिज कर दिया.

जज ने कहा, गुरमीत का बयान गवाह के बयान के आगे कहीं भी नहीं टिकता है. जिसने कहा है कि उसकी दो बेटियां हैं. हॉस्टल की वार्डेन ने भी कहा था, गुरमीत की दो लड़कियां साल 1999 से डेरा हॉस्टल में रह रही है. इस तथ्य को देखते हुए उसका नपुंसकता का दावा फेल साबित होता है. जज ने उसे दोनों मामले में 10-10 साल की सजा सुनाई जो कि एक साथ नहीं चलेंगे.

जज ने अपने 9 पेज के ऑर्डर में कहा कि जिसने अपनी साध्वियों को ही नहीं छोड़ा और जो जंगली जानवर की तरह पेश आया वह किसी रहम का हकदार नहीं है. जज ने आर्डर कॉपी में लिखा है कि यह दोषी अपनी ही महिला अनुयायियों का सेक्शुअल हैरेसमेंट करने और उन्हें धमकाने में शामिल रहा है तो ऐसा शख्स कोर्ट की किसी भी हमदर्दी का हकदार नहीं है.

A Big Vision News Network India

About A Big Vision News Network India

Leave a Reply

*